Thugs of Hindostan Moral Story यह खजाना आपको मिल सकता है
Motivational Stories

Thugs of Hindostan Moral Story | यह खजाना आपको मिल सकता है

दोस्तों इस दुनिया में मौजूद हर इंसान के मन में कामयाब होने के लिए एक सवाल घूमता रहता है। वह सवाल है। मैं ऐसा कौन सा काम करुँ। जिससे मेरी जिंदगी बदल जाए। इस सवाल का जवाब जानने के लिए वह इधर – उधर घूमता है। लोगो से पूछता है। इस सवाल का जवाब एक इंसान के पास है और उस इंसान से लोग कभी भी नहीं पूछते। इस बात को हम एक Thugs of Hindostan Moral Story से समझते है। Thugs of Hindostan Moral Story | यह खजाना आपको मिल सकता है

Thugs of Hindostan Moral Story

Thugs of Hindostan Moral Story यह खजाना आपको मिल सकता है
Thugs of Hindostan Moral Story यह खजाना आपको मिल सकता है

एक बार की बात है। एक सेठ जी थे। जो हीरो का व्यापार करते थे।

इसी काम से उनका दिल्ली से मुंबई आना जाना होता रहता था। एक दिन ट्रैन में बैठते हुए उन्हें एक ठग ने देख लिया।

उस ठग ने मन ही मन सोचा की दिल्ली से मुंबई तक दो दिन लगते है। इन दो दिन के अंदर मैं सेठ जी से हीरे ठग लूँगा। वह ठग भी सेठ जी के साथ उस ट्रैन में बैठ गया।

Read More – Motivational Kahani

वह ठग जल्दी ही सो गया क्योकि उसे रातभर जागना था। जब सेठ जी का सोने का समय हुआ तो सेठ जी ने उस हीरे की पोटली को उस ठग की जेब में डाल दिया।

इसके बाद सेठ जी आराम से सो गये।

सब लोगों के सोने के बाद वह ठग आराम से उठा और सेठ जी का सामान देखने लगा लेकिन उसे कही भी हीरो की पोटली नहीं मिली। आखिर में थक हारकर वह फिर से सो गया।

अब सेठ जी सुबह उठे और उस ठग की जेब में से हीरो की पोटली निकालकर अपनी जेब में रख ली। एक रात अच्छे तरिके से गुजर चुकी थी।

अगले दिन फिर से वह ठग जल्दी सो गया क्योकि उसे रातभर जागना था।

जब सेठ ही को नींद आयी। उन्होंने फिर से हीरो की उस पोटली को उस ठग की जेब में रख दिया और सो गए।

वह ठग रात में उठा लेकिन उसे हीरो से भरी पोटली नहीं मिली। थक हारकर वह फिर से सो गया।

Read More – Bharosa Kahani in Hindi

सेठ जी सुबह उठे और उस ठग की जेब से हीरे निकाले और मुंबई उतर गए। वह ठग सेठ जी के पास आया और बोला – मैं ठगी छोड़ दूँगा। आप मुझे बस इतना बता दीजिये की आपने हीरे कहाँ छुपाये थे।

यह सुनकर सेठ जी बोले – अरे मूर्ख हर इंसान अपना सुख दूसरों की तरफ ढूँढ़ता है।

अगर तूने एक बार अपने गिरेबान में झाँककर देखा होता तो तू ठग नहीं था, तू तो उन हीरो का मालिक था। हीरे तेरे ही पास थे लेकिन तू उन्हें मेरे पास ढूँढ़ता रहा।

दोस्तों इस Thugs of Hindostan Moral Story से मैं आपको यह समझाना चाहता हूँ की ज्यादातर लोग अपना सुख दूसरे लोगो में ढूँढ़ते रहते है। आपको आपकी जिंदगी में कामयाब होने के लिए क्या चाहिए।

यह बात आपको किसी दूसरे से पूँछने की जरुरत नहीं है। यह बात अपने आप से पूछो। आपको जवाब मिल जाएगा क्योकि सब कुछ आपके पास ही है।

उसे बाहर मत ढूँढ़ो। उसे अपने अंदर ढूँढ़ो। Thugs of Hindostan Moral Story | यह खजाना आपको मिल सकता है

Thugs of Hindostan Moral Story

Note – The Motivational Story and Inspirational Story shared here is not my original creation. I have read or heard it before and I am just providing a Hindi version of the same with some modifications. I just want to help the people to get more easily through difficult times. Thank You

Follow Me on Social Media Platforms

Instagram – https://www.instagram.com/ankurrathi93/

Facebook – https://www.facebook.com/AnkurRathiMotivation/

Twitter – https://twitter.com/rathiankur19933

इन्हें भी पढ़ना मत भूले

अगर आप ऐसी ही और भी  Video को Animation के साथ देखना चाहते है। आप मुझे मेरे YouTube Channel पर Subscribe कर सकते है। Thank You

Ankur Rathi
This is Ankur Rathi a professional Blogger, Youtuber, Digital Marketer & Entrepreneur. I love doing work which makes me happy, that’s why i love blogging. I also love reading and sharing my thoughts with others to help them. Live your dream today because tomorrow never come.
http://ankurrathi.com/

One thought on “Thugs of Hindostan Moral Story | यह खजाना आपको मिल सकता है”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *