Motivational Stories

How to Get Virtue Motivational Story in Hindi

नमस्कार दोस्तों, मुझे उम्मीद है कि आप सभी अच्छे होंगे। दोस्तों क्या आप जानते है की आपको आपके द्वारा किये गए कर्मो का फल किस प्रकार मिलता है। क्या आप ये भी जानते है की आपके द्वारा किये गये कर्म पुण्य बने या फिर पाप। इन सब बातो को समझाने के लिए मैं आपको एक Motivational Story सुनता हूँ। पुण्य कैसे मिलता है – How to Get Virtue Motivational Story in Hindi

How to Get Virtue Motivational Story in Hindi

पुण्य कैसे मिलता है – How to Get Virtue Motivational Story in Hindi

एक दिन महारानी ने मंदिर में जाकर भगवान की पूजा करने की सोची। इसलिए वे मंदिर चली गयी और उन्होंने भगवान का अभिषेक भी किया।

उस दिन उन्होंने मंदिर में बहुत सारा सोना भी दान के रूप में दिया। इतना सब करने के बाद महारानी को अहंकार हो गया।

उन्होंने सोचा की जितना सोना आज मैंने मंदिर में दान किया है। इतना तो कभी भी किसी ने नहीं किया होगा।

Read More – Short Motivational Story in Hindi

इसी अहंकार के साथ महारानी अपने घर आ गयी। रात में जब महारानी सो रही थी। तब उन्हें एक सपना आया। उस सपने में भगवान ने उन्हें दर्शन दिए।

भगवान ने महारानी से कहा – आज मेरे मंदिर में एक गरीब महिला आयी है। उसने अपनी जिंदगी में बहुत पुण्य किये है। तुम उसे कुछ धन देकर उसके कुछ पुण्य खरीद लो।

जब तुम मरने के बाद परलोक जाओगी। उस समय ये पुण्य तुम्हारे काम आजायेंगे। तभी महारानी की नींद टूट गयी और उन्हें बेचैनी होने लगी।

उन्होंने अपने मंत्री को बुलाया और उससे कहा – सैनिकों को मंदिर भेजो और उस महिला को पकड़ के मेरे पास ले आओ। सैनिक मंदिर जाकर उस महिला को पकड़कर महारानी के पास ले आते है।

महारानी ने उस महिला से कहा – तुमने अपने जीवन में बहुत पुण्य कमाए है। तुम्हारे पास पुण्य है और मेरे पास धन है। तुम मुझे अपने कुछ पुण्य दे दो।

बदले में मैं तुम्हे बहुत सारा धन दे दूँगा। ये सब सुनकर उस महिला ने महारानी से कहा – मैं तो बहुत गरीब हूँ। मेरे पास पुण्य कैसे हो सकते है।

मैं तो एक वक्त के खाने के लिए भी घर घर जाकर भीख माँगती हूँ।

Read More – Moral Stories for Kids in Hindi

कल मुझे भीख में बहुत सारा सत्तू मिला। मैंने सोचा की इस सत्तू से भगवान को ही भोग लगा दू। इसलिए मैं मंदिर की ओर चल दी। रास्ते में मुझे एक भिखारी मिला।

वह बहुत ही दिनों से भूखा था। मैंने आधा सत्तू उसे दे दिया और बाकी बचे सत्तू से भगवान को भोग लगा दिया।

हे महारानी अब आप ही मुझे बताइये की जब मैं भगवान को ठीक से भोग ही नहीं लगा पायी तो मुझे पुण्य कैसे मिल सकते है।

जब महारानी ने उस गरीब महिला की बात सुनी तो उसी वक्त महारानी का सारा अहंकार खत्म हो गया। अब महारानी समझ गयी थी की जो भी इंसान निस्वार्थ भाव से भगवान की पूजा करता है।

उन्हें याद करता है। भगवान उसी से प्रसन्न होते है। और ऐसे इंसान को ही जीवन में पुण्य की प्राप्ति होती है।

Read More – Moral Stories in Hindi

दोस्तों इस Inspirational Story से मैं आपको ये समझाना चाहता हूँ की कोई भी कर्म करते समय अगर आपके मन में स्वार्थ की भावना है तो आपको आपके कर्म का अच्छा फल नहीं मिलेगा।

आपको पुण्य उन्ही कर्मो से मिलेंगे। जिनमे निस्वार्थ की भावना छिपी होगी। पुण्य कैसे मिलता है – How to Get Virtue Motivational Story in Hindi

Note – The Motivational Story and Inspirational Story shared here is not my original creation. I have read or heard it before and I am just providing a Hindi version of the same with some modifications. I just want to help the people to get more easily through difficult times. Thank You

इन्हें भी पढ़ना मत भूले

अगर आप ऐसी ही और भी  Video को Animation के साथ देखना चाहते है। आप मुझे मेरे YouTube Channel पर Subscribe कर सकते है। Thank You

दोस्तों यदि आपके पास Hindi में कोई भी Article, Motivational Stories in Hindi and Inspirational Stories in Hindi या कोई भी अच्छी जानकारी है जो किसी दूसरे के काम आ सके तो आप उस जानकारी को हमारे साथ share जरूर कीजिए। आप हमें उस जानकारी को अपने photo के साथ email कर सकते है। हमारी email id है helphelp24x7@gmail.com अगर हमे आप के द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो हम उसे आपके नाम और photo के साथ अपनी website पर publish करेंगे। Thank You

Ankur Rathi
This is Ankur Rathi a professional Blogger, Youtuber, Digital Marketer & Entrepreneur. I love doing work which makes me happy, that’s why i love blogging. I also love reading and sharing my thoughts with others to help them. Live your dream today because tomorrow never come.
http://ankurrathi.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *